राजनीति का सफल प्रबंधन कैसे करे आप

राजनीति  का सफल प्रबंधन कैसे करे आप

नेता तुम्ही हो कल के -  उभरते हुए राजनैतिक सलाहकार श्री  ऐके  मिश्रा जी बता रहे है की अपने राजनीति  का सफल प्रबंधन कैसे करे आप ?

चुनावो में जीतना है तो “नेता नहीं नायक बने प्रत्याशी” - ऐसा मनना है चुनावी और राजनैतिक रणनीति के विशेषज्ञ श्री एके मिश्र जी का ! चुनाव में विजयश्री के   रणनैतिक चक्रव्यूह रचने के माहिर श्री मिश्र ने आगे बताते हुए इसके पीछे के छिपे रहस्यो को बताते हुए कहा की भारतीय उपमहाद्वीप के देशो में कुछ हो या न हो पर पर राजनीती की दुनिया में एक बहुत बड़ा बदलाव आ रहा है ! कुल मिला कर देखा जाये तो इसी बदलाव की प्रक्रिया को पोलिटिकल ट्रांजीशन फेज कहते है ! इसकी विशेषता होती है इसमें आमूल चूल परिवर्तन आते है ! विगत चुनावो के अप्रत्याशित परिणामो ने भी यही सिद्ध कर दिया है ! परिणामो  ने ये सिद्ध कर दिया की एक पार्टी जो किसी जगह बहुत बड़े बहुमत से  सरकार बनाती है वही  पार्टी दूसरी  जगह हार भी जाती है ! चरम पर हर  तरीके को इस्तेमाल करने के बाद भी पार्टी या फिर प्रत्याशी हार जाते है ! वही दूसरी जगह कुछ ऐसे भी प्रत्याशी जीतते है जिनके पास न तो किसी पार्टी का सपोर्ट था और न ही सुविधाएं  थी ! यानि की घोर विपरीत परिस्थितयो में कुछ लोगो ने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया और चुनाव जीते भी !

ऐसा क्यों हो रहा है यही अगर यही समझ लिया जाये तो सर्व कार्य सिद्ध हो जायेगे ! उनका मानना है  की जिस तरह से मतदाताओ के राजनैतिक व्यवहार में बदलाव आ रहा है वो इस बात को इंगित करता है की अब जनता का झुकाव नेता की तरफ से हटता जा रहा है ! वो प्रत्याशियों के अंदर मात्रा एक नेता की इमेज की तलाश नहीं करते है बल्कि वो एक ऐसे नायक की तलाश में है जो उनके बीच रहे और दिन प्रतिदिन के संघर्षो में उनका साथ दे ! जो मात्र बयानबाजी न करे बल्कि आगे बढ़ने के मार्ग को स्वयं   आगे बढ़कर  प्रशस्त करे ! जो  दूसरो को रास्ता न  दिखाये बल्कि दूसरो के लिए रास्ता बनाये ! जहा पर   नेता और जनता के बीच राजनीती और पद का अंतराल न हो बल्कि नेता, नायक की तरह इस तरह से उनके बीच घुला हो जैसे की पानी में शक्कर !

इन बातो से स्पष्ट है की राजनैतिक अनिश्चितता की स्तिथि में आजकल सबसे ज्यादा नेताओ को अपनी राजनैतिक छवि बदलने की है ! पोलिटिकल इमेज बिल्डिंग के विशेषज्ञ श्री एके मिश्र जी ने बताया की आज नेताओ को अगर सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरुरत है तो अपनी पोलिटिकल ब्रांडिंग और जनता के बीच इमेज रिबिल्डिंग की ! यह कार्य दुष्कर जरूर है पर असंभव नहीं ऐसा मानना है मिश्र जी का ! उनका ये भी कहना है की नेता से नायक बनने की पोलिटिकल इमेज ट्रांसफॉर्मेशन एक लंबी प्रक्रिया है जिसमे की लगातार काम करने की जरुरत है ! इसके फायदे बताए हुए श्री मिश्र ने बताया की एक बार अगर किसी प्रत्याशी ने अपनी पोलिटिकल इमेज को नेता से नायक के रूप में तब्दील कर लिया तो चुनावी परिस्थिति कितनी भी विषम क्यों न हो लेकिन उनके परिणामो के ऊपर फर्क नहीं पड़ने वाला है ! आपको बता दे की श्री  ऐके  मिश्रा जी भी इलाहबाद  के ही रहने वाले है और कई प्रसिद्ध राजनैतिक हस्तियों को अपना मार्ग दर्शन दे चुके है